मेरा घर पर निबंध 10 लाइन | 10 Lines on my Home in Hindi

आज हम मेरा घर पर 10 लाइन निबंध लेकर आये हैं। अक्सर बच्चों से स्कूल में सवाल पूछे जाते हैं जैसे: घर के बारे में 10 लाइन लिखिए, मेरा घर पर निबन्ध 10 लाइन में लिखिए, घर के बारे में 5 लाइन, घर के बारे में निबंध, write 10 Lines on my home in Hindi आदि। निचे हमने घर के बारे में वाक्य और 10 लाइन्स दिए हैं जिसका उपयोग कर घर पर निबंध लिखा जा सकता है। हमें उम्मीद है की घर के बारे दिए गये sentence आपके काम आयेंगे।

मेरा घर पर 10 लाइन

मेरा घर पर निबंध 10 लाइन

  • हम जहाँ रहते हैं उस निवास स्थान को घर कहा जाता है।
  • मेरा घर मुंबई में स्थित है।
  • मेरे घर में 4 कमरे हैं और एक रसोई और शौचालय है।
  • मेरे घर में कुल 4 सदस्य रहते हैं।
  • घर हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। यह हमें गर्मी, बरसात, ठण्ड आदि से बचाता है।
  • मेरे घर के छत पर हमने सुन्दर फूलों का गमला लगाया हुआ है।
  • मेरे घर में हमेशा साफ़-सफाई रहती है।
  • मेरे घर में एक पूजा कमरा भी है जहाँ हम भगवान की पूजा करते हैं।
  • मुझे अपना घर बहुत ही प्यारा लगता है।
  • मेरे घर में मेरा पूरा परिवार बहुत ख़ुशी से रहता है।

10 Lines on my home in Hindi

  • जिस मकान में अपने परिवार के साथ रहते हैं उसे घर कहा जाता है।
  • हमारा भी एक घर है जो की मुझे बहुत प्यारा लगता है।
  • मेरे घर में 3 कमरे हैं और एक रसोई और शौचालय है।
  • मेरे घर में हमेशा साफ़-सफाई का ध्यान रखा जाता है।
  • मेरे घर के पास सब्जी का बाजार है जहाँ से हम सब्जी लेकर आते हैं।
  • मेरे घर में रौशनी के लिए रोशनदान बना हुआ है।
  • सर्दी, गर्मी और बरसात हर मौसम में हम अपने घर में सुरक्षित महसूस करते हैं।
  • मेरे घर में कुल 4 लोग रहते हैं, मेरे माता-पिता, मैं और मेरा भाई।
  • मेरे घर में एक आँगन है जहाँ हम खेलते हैं।
  • आँगन के कोने में हमने सुन्दर-सुंदर फूलों के पौधे लगाये हुए हैं।

मेरा घर पर 10 लाइन

  • मेरा घर बहुत ही प्यारा और सुन्दर है।
  • मेरे घर में मैं और मेरे माता-पिता रहते हैं।
  • मेरा घर गाँव में है जहाँ का वातावरण बहुत ही अच्छा है।
  • मेरे घर में 2 कमरे हैं साथ ही रसोई और शौचालय भी है।
  • घर के पास एक आम का पेड़ है जिसमे आम लगते हैं।
  • घर के आस-पास हमने कई फूलों के पौधे लगाये हैं।
  • घर में एक आँगन है जहाँ तुलसी का पौधा है।
  • हम घर की सफाई के लिए झाड़ू और पोछा लगाते हैं।
  • हर साल दीपावली के समय हम घर की दीवारों की पुताई करवाते हैं।
  • मेरा घर मुझे बहुत ही प्यारा लगता है और पूरा परिवार इसमें ख़ुशी से रहता है।

घर के बारे में 5 लाइन

  • घर एक महत्वपूर्ण स्थान है जहाँ हम अपने परिवार के साथ रहते हैं।
  • घर हमें बारिश, तेज धुप और तेज ठण्ड से बचाता है।
  • हमारे पास भी एक घर है जो की मुझे बहुत पसंद है।
  • हम अपने घर में बहुत ही सुख-शांति और खुशहाली से रहते हैं।
  • हम अपने घर का बहुत ख्याल रखते हैं और समय-समय साफ़-सफाई और सजावट का ध्यान रखते हैं।
  • स्कूल के बारे में 10 लाइन वाक्य
  • 10 Lines on Cow in Hindi
  • महात्मा गांधी निबंध 10 लाइन

इस आर्टिकल में हमने मेरे घर पर निबंध 10 लाइन में और घर के बारे में 5 लाइन वाक्य और sentences दिए हैं। हमें उम्मीद है की 10 Lines on my home in Hindi के बारे में लिखा गया यह लेख class 1, 2, 3, 4, 5 और अन्य बच्चों के काम आएगी।

Related Posts

ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध

ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध | Global Warming Essay in Hindi

sheet-ritu-par-nibandh

शीत ऋतु पर निबंध हिंदी में 100, 200 शब्द | Winter Season Essay in Hindi

सड़क सुरक्षा पर निबंध

सड़क सुरक्षा पर निबंध 100, 150, 250, 500 शब्दों में | Road Safety Essay in Hindi

Leave a reply cancel reply.

मेरा घर पर निबंध – Mera Ghar | My House Essay in Hindi

In this article, we are providing information about My House in Hindi, Mera Ghar Par Nibandh | My Home | My House Essay in Hindi Language मेरा घर पर निबंध हिंदी | Nibandh in 100, 200, 300, 500 words For Students & Children.

दोस्तों आज हमने Essay on Mera Ghar in Hindi लिखा है। मेरा घर पर निबंध हिंदी में कक्षा Class 1, 2, 3, 4,5, 6, 7, 8, 9 ,10 और 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए है।

मेरा घर पर निबंध – My House Essay in Hindi

Mera Ghar par Nibandh | Lekh Hindi Mein ( 100 words )

मेरा घर दिल्ली शहर में है। यह 1000 वर्ग पुट भूमि पर बना हुआ है। देखने में बहुत ही सुन्दर है। इसमें चार कमरे, एक स्नानघर एवं एक रसोईघर है। कर के आगे बरामदा भी बना हुआ है। प्रत्येक कमरे में बिजली लगी हुई है।

घर में मेरा कमरा अलग है। मैं उसी में पढ़ता हूँ और वहीं सोता हूँ। मेरे मकान में एक बड़ा आँगन भी है। आँगन में एक ओर नल और उसी ओर छोटा-सा बगीचा भी है। बगीचे में फूल-पौधे भी लगे हुए हैं। हमारे घर का द्वार पूर्व की ओर है।

मेरा घर बहुत ही हवादार है। जाड़े में धूप तथा गर्मी में हवा खूब आती है। मेरे पिताजी ने इसको बनवाया है। हमारा घर साफ-सुथरा रहता है।

10 Lines on My House in Hindi

Essay on My Village in Hindi

Essay on Mera Ghar in Hindi ( 200 words )

मेरा घर बहुत सुन्दर है । इसमें तीन कमरे हैं । एक बैठक, दो सोने के कमरे हैं । एक रसोईघर है । बैठक में बैठने के लिए सोफा लगा है । यहाँ एक छोटी-सी अलमारी में तरह तरह की सजावटी वस्तुएँ रखी हैं । वहीं एक टी.वी. भी है । हम सब यहाँ बैठकर टी.वी. देखते हैं । पिताजी समाचार पत्र पढ़ते हैं । रसोईघर के साथ बालकनी लगी है । बालकनी में माँ और दादी ने बहुत सारे पौधे लगाए हैं। यहाँ बहुत हरा-भरा लगता है । यहाँ मेज-कुर्सी लगी है । हम सब यहीं साथ बैठ कर खाना खाते हैं।

मेरे घर में हम छः लोग हैं । माँ, पिता जी, दादा जी, दादी, मैं और मेरी छोटी बहन सोनल । मैं दादा-दादी जी के साथ सोता हूँ । इस कमरे में एक छोटा सा मंदिर है । दादाजी और दादी हर रोज वहाँ पूजा करते हैं । यहाँ एक छोटी मेज कुर्सी भी है । वहाँ मैं अपनी पुस्तकें रखता हूँ और पढ़ाई करता

हमारा घर बहुत बड़ा नहीं है । पर हम सब मिल कर प्यार से रहते हैं । मेरी माँ ने घर को सुन्दर से सजाया है । मुझे मेरा घर बहुत प्यारा लगता है ।

Mera Ghar in Hindi Essay | Ghar Per Nibandh ( 300 words )

मेरा घर अशोक विहार, रिंग रोड पर है। मेरे घर का नाम शांति भवन है। इसमें पाँच कमरे हैं। यह दो मंजिल वाला भवन है। नीचे एक बैठक, पाकशाला, शौचालय तथा दो कमरे हैं। ऊपर दो कमरे हैं। हर कमरे के साथ शौचालय और स्नानगृह भी है। अतिथिशाला में अतिथि आकर ठहरते हैं। मेरा कमरा ऊपर हैं जहाँ मैं अपने भाई के साथ रहता हूँ। यहाँ मेरे लिए और मेरे भाई के लिए कुर्सियाँ और मेजें लगी हैं जहाँ हम दोनों बैठ कर पढ़ते हैं।

बैठक में सोफा-कुर्सियाँ आदि लगी हैं। जहाँ मेरे पिता जी और उनके मित्र सदा बातें करते रहते हैं। बैठक में दो पंखे लगे हैं। यहाँ रेडियो और टेलीविजन भी रखे हैं। यहाँ एक टेलीफोन भी है।

बैठक के बाहर एक छोटा घास का मैदान है जहाँ किनारे पर फलों के वृक्ष हैं। पेड़ों की ठंडी छाया में तथा सुन्दर पुष्पों की क्यारियों के मध्य हम अपनी कुर्सियाँ डालकर बैठते हैं। हरी-हरी घास पर नंगे पाँव चलने में बड़ा आनन्द आता है।

हर कमरे में हवा और रोशनी का प्रबन्ध है। एक कमरे में हमने मन्दिर बनाया है जहाँ हम सब बैठ कर भगवान की आराधना करते हैं। यहाँ रामायण, गीता और दूसरी धार्मिक पुस्तकें रखी हुई हैं।

मेरे घर में मेरे माता-पिता, मैं और मेरा भाई रहते हैं। हमारा एक नौकर है। जिसको हमने बड़े गेट के समीप एक कमरा दिया है। वह और मेरा कुत्ता रूनी मेरे घर की रखवाली करते हैं।

मेरे पड़ोस में अच्छे लोग रहते हैं। उनके भवन भी हमारे भवन की तरह सुन्दर और आकर्षक हैं। हमारे पड़ोसी हमारे घर आते रहते हैं। हमारे घर में सदा शान्ति और आनन्द का साम्राज्य रहता है। हम सब मिलकर काम करते हैं। कोई किसी का अपमान नहीं करता। सब एक दूसरे का आदर करते हैं। मुझे मेरा घर बहुत प्रिय है।

———————————–

इस लेख के माध्यम से हमने Mera Ghar Par Nibandh | My House Essay in Hindi  का वर्णन किया है और आप यह निबंध नीचे दिए गए विषयों पर भी इस्तेमाल कर सकते है।

My House in Hindi mera ghar hindi essay mera ghar in hindi essay essay on mera ghar in hindi Short Essay on My Home in Hindi

Leave a Comment Cancel Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Hindi Yatra

Mera Ghar Essay in Hindi – मेरा घर पर निबंध

Mera Ghar Essay in Hindi दोस्तो आज हमने मेरा घर पर निबंध लिखा है मेरा घर पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए है. Mera Ghar Essay in Hindi की सहायता से विद्यार्थी अपनी जानकारी बढ़ा सकते हैं और साथ ही परीक्षाओं में भी इस निबंध का इस्तेमाल कर सकते है.

Mera Ghar Essay in Hindi For Class 2

मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण स्थान जहां पर मेरा जन्म हुआ था वह है मेरा प्यारा घर जो कि ईश्वर की तरफ से मेरे जीवन का सबसे बड़ा तोहफा है. मेरे घर में सभी लोग मिल जुलकर रहते है. मेरे घर के सदस्यों की बात करूं तो मेरे घर में दादा-दादी, माता-पिता, चाचा-चाची, मेरी बहन, एक भाई और चाचा जी के दो छोटे लड़के रहते है.

Mera Ghar Essay in Hindi

Get Some Essay on Mera Payara Ghar in hindi for Student – 150, 250 or 1000 words.

सभी लोग मुझसे बहुत प्यार करते हैं दादा जी के साथ हर शाम में घूमने जाता हूं और वह मुझे एक बगीचे में ले जाकर शिक्षाप्रद कहानियां सुनाते है. हमारे घर में पांच कमरे हैं एक रसोई है, एक मंदिर है और मेहमानों के लिए एक अलग से बड़ा कमरा है. हमारे घर के आंगन में तरह-तरह के फूलों और फलों के पेड़ पौधे लगे हुए है.

मेरे घर के चारों ओर हरियाली छाई हुई है जो कि देखने में बहुत ही सुंदर लगते है और स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है तो ऐसा है मेरा प्यारा घर.

Mera Ghar Essay in Hindi for Class 4

मेरा घर राजस्थान के उदयपुर शहर में स्थित है जिसको झीलों की नगरी के नाम से भी जाना जाता है. मेरा घर शिवपुरी कॉलोनी में स्थित है मेरा घर दो मंजिली इमारत का बना हुआ है जो कि देखने में बहुत ही सुंदर लगता है.

मेरे घर में, मैं अपने दादा-दादी, माता-पिता और एक बहन के साथ रहता हूं. कॉलोनी में हमारा घर सबसे अधिक सुंदर है आने जाने वाले लोग सभी हमारे घर की तारीफ करते हैं और यह सुनकर मुझे बहुत अच्छा लगता है.

यह भी पढ़ें – Mera Gaon Essay in Hindi – मेरा गाँव पर निबंध

मेरे घर के आंगन में एक बगीचा है और उसमें सुंदर फूलों के पेड़ पौधे लगे हुए है. आंगन में एक नीम का पेड़ भी है जिसके नीचे हमने झूला लगाया हुआ है जहां पर हम हर शाम झूला झूलते है. हमारे घर में हमारे लिए 6 कमरे हैं तीन नीचे की मंजिल पर और तीन दूसरी मंजिल पर है. नीचे की मंजिल पर एक गेस्ट रूम भी है जोकि मेहमानों के लिए है.

मेरे घर के सभी कमरे हवादार है जिन्हें हम रोज सफाई करके साफ रखते है. मेरे घर में एक रसोई घर है जहां पर रोज मेरी माता जी हमें खाना बनाकर खिलाती है. मेरे घर के आंगन में एक तरफ हमने एक छोटा मंदिर भी बनवाया है जिसमें हम रोज सुबह शाम पूजा करते है.

मेरा घर मुझे बहुत ही प्यारा लगता है जब भी मैं स्कूल या कहीं और बाहर से थक कर घर आता हूं तो सारी थकान भूल जाता हूं. मेरे घर के आंगन में मैं और मेरी बहन रोज खेलते है मेरे दादाजी आंगन में योगा करते है. मेरे विचार से मेरा घर दुनिया का सबसे सुंदर घर है.

Mera Ghar Essay in Hindi For Class 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12

मेरा घर मुझे बहुत अच्छा लगता है मेरा घर राजस्थान की झुंझुनू जिले में एक गांव में स्थित है. मेरा घर मुझे बहुत प्यारा लगता है वैसे तो घर ईटों पर तो चूना सीमेंट का बना होता है लेकिन जब तक है उस घर में एक दूसरे से प्यार करने वाले सदस्य नहीं रहते हो उसे घर नहीं कहा जा सकता है वह मकान ही कहलाएगा.

इसलिए मुझे मेरा घर बहुत अच्छा लगता है क्योंकि हमारे परिवार के सभी सदस्य मिलजुलकर और बड़े प्यार से रहते है. एक मकान घर तभी बनता है जब वहां रहने वाले सदस्यों में मनमुटाव में हो और वे एक दूसरे में भेदभाव नहीं करते है. एक दूसरे से स्नेह करते हो और मुसीबत में एक साथ खड़े होकर इस मुसीबत का सामना करते हो.

यह भी पढ़ें –  मेला पर निबंध – Essay on Mela in Hindi

मेरा घर एक पुश्तैनी घर है जो कि मेरे दादाजी ने बनवाया था. हमारे घर में दादा-दादी, माता-पिता, मैं, मेरा छोटा भाई और छोटी बहन रहते है.

हमारे घर में सात कमरे है जिन्हें हम सभी खुशी खुशी रहते हैं एक रसोई है जहां पर मेरी माता जी रोज खाना बनाती है. मेरे घर में एक मंदिर भी है जहां पर मेरी दादी जी रोज पूजा पूजा पाठ करती रहती है.

हमारे घर के एक और छत पर जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है. हमारे घर के चारों ओर चारदीवारी बनी हुई है. हमारे घर में मेहमानों के बैठने के लिए एक अलग से बड़े कमरे की व्यवस्था की गई है जब भी हमारे यहां मेहमान आते हैं तो वह वहीं पर रुकते है. हमारे घर में एक छोटा पुस्तकालय भी बना हुआ है

जहां पर हम लोग जाकर पढ़ाई करते हैं और हमारे दादा जी भी वहां पर पुस्तके पढ़ते रहते हैं जो कि हमें रोज नई नई शिक्षाप्रद कहानियां सुनाते है और साथ ही अपने जीवन की मजेदार घटनाओं के बारे में भी बताते हैं जिनको सुनकर हम बहुत ही खुश होते हैं

हमारे घर में स्नान के लिए दो बाथरूम बने हुए है और दो शौचालय बने हुए है. हमारे घर के आगे एक छोटा सा बगीचा है जहां पर दुब लगाई हुई है. हमारे घर के पीछे भी बहुत जगह है जिसमें हमने तरह तरह के फलों और फूलों के पेड़ पौधे लगा रखे है. मुझे उनमें से आम और अमरुद के पेड़ बहुत पसंद है क्योंकि हर साल हमारे यहां आम और अमरुद लगते हैं और वह मैं बड़े चाव से खाता हूं.

फूलों की बात करें तो हमारे बगीचे में गुलाब गेंदा सूरजमुखी, चमेली और अन्य सुगंधित पौधे लगे हुए है जिससे हमारे घर का वातावरण सुगंधित और स्वच्छ बना रहता है. घर में पानी की जरूरत को पूरा करने के लिए घर की छत पर दो पानी की टंकी रखी हुई है और साथ ही घर के पीछे एक बड़ी पानी की टंकी बनी हुई है.

हर साल जब भी दीपावली या होली आती है तो हम हमारे घर को रंग बिरंगे रंगों में रंग होते हैं जिससे हमारा घर देखने में बहुत सुंदर लगता है और साथ ही हमारे घर की उम्र भी बढ़ जाती है. हमारा घर बड़ा होने के कारण छत पर बहुत सी जगह होती है. मकर सक्रांति त्यौहार आने पर मैं मेरे छोटे भाई बहन और मेरे दोस्त वहां से पतंग उड़ाते है.

मेरा घर गांव में होने के कारण यहां का वातावरण शहरों के मुकाबले बहुत ही स्वच्छ है यहां पर शहरों की तरह अत्यधिक शोर-शराबा भी नहीं होता है जिसके कारण हम आराम से अपने घर में रह पाते है. गांव में एक और पहाड़ है और पास ही से एक छोटी नदी भी रहती है जिसके कारण हमारे यहां कभी जल की कमी नहीं होती और साथ ही यहां पर हरियाली भी बनी रहती है.

हमारे घर के पास ही बाजार है जहां से हम खाने पीने की वस्तुएं लेकर आते है. हमारे घर से कुछ ही दूरी पर डाकघर, बैंक और हॉस्पिटल की सुविधा भी उपलब्ध है. हमारे घर में पेड़ पौधे और हरियाली अधिक होने के कारण पक्षी वहां पर पूरे दिन चह-चाते रहते हैं जिनकी आवाज बहुत ही मधुर होती है.

यह भी पढ़ें –  पुस्तक मेला पर निबंध – Pustak Mela Essay in Hindi

हमारे घर में हमने एक गाय और कुछ बकरियां भी पाल रखी है जिनको हम रोज खाना खिलाते है और छोटे बकरी के बच्चों से रोज खेलते है. गाय का दूध पीकर हम हष्ट-पुष्ट और स्वस्थ बने रहते है. मेरे घर से मेरा विद्यालय अधिक दूरी पर नहीं है जिसके कारण मुझे विद्यालय आने जाने में कोई परेशानी नहीं होती है.

कुछ दिनों पहले मेरे पिताजी घर में एक नया सदस्य लेकर आए वह था हमारा प्यारा कुत्ता जो कि देखने में बहुत ही मासूम और बहुत प्यारा था कुछ ही दिनों में उसके साथ हमारी बहुत अच्छी दोस्ती हो गई और हम सुबह शाम उसके साथ खेलते है. जब हम स्कूल से आते हैं तो वह भो भो की आवाज से हमें को पुकारता है और हमारे आगे पीछे घूमता रहता है. जब भी दादा जी बाजार में जाते हैं तो वह उनके साथ जाता है और उन को सुरक्षा प्रदान करता है

मेरे घर के बाहर गंदे पानी की निकासी के लिए नालियां बनी हुई है जिससे गंदा पानी गलियों में नहीं फैलता है और हमारे घर का वातावरण स्वस्थ रहता है. बारिश के पानी को इकट्ठा करने के लिए हमारे घर में गड्ढा बना हुआ है जिसमें जब भी बारिश होती है तो बारिश का पानी इकट्ठा हो जाता है और वह सीधा धरती के अंदर चला जाता है ऐसा हमारे गांव के सभी घरों में है जिसके कारण हमारे गांव का भू-जल स्तर गिरता नहीं है.

मैं जब भी घर से बाहर कहीं चला जाता हूं तो होटलों या धर्मशालाओं में रहता हूं जहां पर मुझे वह सुकून नहीं मिलता है जो अपने घर पर मिलता है और वहां पर नींद भी नहीं आती है जो मुझे मेरे घर पर आनंद के साथ आती है.

मेरे ख्याल से मेरा घर धरती पर जन्नत के समान है जहां पर अपनों का प्यार मिलता है मां का दुलार मिलता है जो कि शायद किसी को स्वर्ग में भी नसीब नहीं होता होगा. जीवन को जीने के लिए घर में प्यार होना बहुत ही जरूरी है तो ऐसा है मेरा घर.

यह भी पढ़ें –

पुस्तक मेला पर निबंध – Pustak Mela Essay in Hindi

मेला पर निबंध – Essay on Mela in Hindi

Mera Gaon Essay in Hindi – मेरा गाँव पर निबंध

Mera Priya Mitra Essay in Hindi – मेरा प्रिय मित्र पर निबंध

पिता पर निबंध – My Father Essay in Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Mera Ghar Essay in Hindi  पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

10 thoughts on “Mera Ghar Essay in Hindi – मेरा घर पर निबंध”

very nice👍 it helped me a lot

Thank you Raushan for appreciation.

Very good essay

Thank you Maheep Singh for appreciation.

Very good essays..helps me a lot!!

Thank you Ankita for appreciation keep visiting our website.

आपको घर एक मंदिर के उपर निबंद लिखना चाहिए।

ममता भकत, हम जल्द ही घर एक मंदिर पर निबंध लिखेंगे, आप ऐसे ही हिंदी यात्रा पर आते रहे धन्यवाद

Bahut badhiya 👍

Akash awasthi, सराहना के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

Leave a Comment Cancel reply

HindiKiDuniyacom

मेरा घर पर निबंध (My House Essay in Hindi)

आश्रय और रहने के उद्देश्य के लिए लोगों द्वारा बनाई गई इमारत को घर के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। वे घरों में अपनी आवश्यक गतिविधियों को अंजाम देते हैं। घर मूल रूप से परिवार के लिए बनाया जाता है। एक मकान परिवार के सदस्यों की देखभाल और स्नेह से एक घर बन जाता है। घर एक ऐसी जगह है जो आराम, सुरक्षा और सलामती की भावना देती है।

मेरा घर पर लघु और दीर्घ निबंध (Short and Long Essays on My House in Hindi, Mera Ghar par Nibandh Hindi mein)

निबंध 1 (250 शब्द) – मेरा घर.

घर एक ऐसी जगह है जहाँ हम रहते हैं। यह किसी भी व्यक्ति की बुनियादी आवश्यकता होती है। हम अपने घरों का निर्माण अपनी आवश्यकता के अनुसार करते हैं। घरों के निर्माण के लिए लकड़ी, सीमेंट, मोर्टार, लोहा और ईंटों की आवश्यकता होती है।

मेरे घर के बारे में

गोरखपुर की आदर्श कॉलोनी में मेरा घर स्थित है। मेरा घर एक छोटा सा घर है क्योंकि हम एक मध्यम वर्गीय परिवार से सम्बंधित हैं। मेरा घर वास्तव में एक प्यारा घर है जहाँ मेरे पिता, माँ, मेरे तीन भाई और हमारी दादी रहती हैं।

हमारे घर में दो बेडरूम, एक बड़ा बरामदा, किचन, लिविंग रूम, वॉशरूम, और बागबानी के लिए बाहर एक छोटा सा लॉन और गैराज के लिए थोड़ी जगह भी मौजूद है। मेरे पिता साल में एक बार घर का रखरखाव और सफेदी जरुर कराते हैं। मेरे घर के सामने एक खाली प्लॉट है जहाँ तरह तरह के पेड़-पौधों लगे हुए है।

यह मेरे प्यारे से छोटे घर में और भी अधिक खूबसूरती को जोड़ता है। हम, तीन बहनें, एक कमरा साझा करते हैं और इसे हमारी पसंद के अनुरूप नीले रंग में रंग गया दिया गया है। हम अध्ययन के लिए उसी कमरे का इस्तेमाल करते हैं। हम अपने कमरे को हमेशा साफ रखते हैं। मेरी माँ एक गृहणी हैं जो घर के चारों तरफ और यहाँ तक कि घर के बाहर भी स्वच्छता को बरकार रखती है।

एक छोटे से घर में हमारा ये छोटा लेकिन खुशहाल परिवार रहता हैं। मेरा घर मुझे सुरक्षा और आराम का एहसास देता है। मुझे अपने घर में रहना बहुत पसंद है, मेरी बचपन की यादें भी यहाँ मौजूद हैं। त्योहारों और समारोहों के अवसर पर हम अपने घर को सजाते हैं, ऐसा करने से यह बहुत सुंदर दिखता है।

मेरा घर सबसे अच्छी जगह है जहाँ मैं आराम कर सकता हूँ। जब भी हमारे दिमाग में घर का नाम आता है, तो लगाव की एक भावना पैदा हो जाती है। मेरा घर सकारात्मकता और आशीर्वाद से भरा हुआ स्थान है। मेरा परिवार मेरे घर को एक खूबसूरत जगह बनाता है।

निबंध 2 (400 शब्द) – मेरे घर की विशेषता

आमतौर पर यह कहा जाता है कि रोटी, कपड़ा और मकान किसी भी व्यक्ति के लिए तीन सबसे आवश्यक वस्तुएं होती हैं। अक्सर ही, हम देखते हैं कि प्रत्येक व्यक्ति सबसे पहले इन तीन पहलुओं को प्राप्त करने के लिए संघर्ष करता है और फिर इसके बाद अन्य इच्छाओं को पूरा करता है। यदि हमारे पास रहने के लिए घर है, तो हमारे मन में पूर्ण संतुष्टि की भावना रहती है।

मेरा घर का विवरण

मेरे घर का निर्माण मेरे गाँव के क्षेत्र में हुआ है। असल में ऐसा था कि हमारे पिता की नौकरी के दौरान हम सरकार द्वारा प्रदान किए गए एक अपार्टमेंट में रह रहे थे। लेकिन सेवा अवधि समाप्त होने के बाद, मेरे माता-पिता ने निवास के लिए गाँव की तरफ रुख करने का फैसला किया, क्योंकि यह एक शांतिपूर्ण जगह है। हमारे गाँव में पहले से ही हमारा घर था।

विशेषताएँ – यहाँ पर हमारे पास पाँच कमरे, रसोईघर, बाथरूम और एक बड़ा बरामदा है। हमारे यहां छोटी झोपड़ी भी है। गर्मियों के दौरान यह सबसे बेहतर जगह साबित होती है। शहरों के घरों की तुलना में हमारे घर का आकार काफी बड़ा है। मेरा घर हरे-भरे खेतों से घिरा हुआ है। यह हमें सुंदरता की भावना प्रदान करता है। शहर की तुलना में गाँव में प्रदूषण का स्तर भी काफी कम है। गांव में मेरा घर होने के बावजूद, यह प्रत्येक सुविधा से सुसज्जित है। गाँवों के लोग भी बेहद मददगार प्रकृति के होते हैं।

बाहर से देखा जाये तो मेरा घर एक छोटी-हवेली की तरह दिखता है। हम दिवाली के दौरान हर साल अपने घर का रखरखाव और सफेदी करते हैं। मेरे परिवार ने मेरे मकान को मेरे लिए घर बना दिया। इसमें मेरी मां, मेरे पिता, दो भाई और मैं खुद भी शामिल हूँ। त्योहारों के दौरान, हमारे परिवार के सभी सदस्य पुनर्मिलन करते हैं और जश्न मनाते हैं। ऐसी कई खास यादें हैं जो हमारे घर में मौजूद हैं।

मेरे घर के बाहर की जगह का उपयोग

जैसा कि मेरे घर का निर्माण हमारे अपने ही क्षेत्र में किया गया है; इसलिए, हमारे घर के सामने काफी खाली जगह मौजूद है। मेरे पिता ने इस स्थान का उपयोग बागवानी करने और गायों तथा कुत्तों जैसे जानवरों के लिए छोटे आश्रय स्थान बनाने के लिए रखा है। उसके लिए अभी थोड़ा सा निर्माण कार्य बचा हुआ है। हमने वहाँ पर जानवरों और पक्षियों के लिए भोजन और पानी की व्यवस्था भी कर रखी है। इन गतिविधियों और मेरे परिवार ने मेरे घर को रहने के लिए सबसे प्यारा स्थान बना दिया। मेरे घर का यह स्थान मेरे पसंदीदा हिस्सों में से एक है।

घर हमारे लिए हमारे माता-पिता की एक सुंदर रचना है। मैं अपने घर से बेहद प्यार करता हूं क्योंकि यह सुरक्षा और जीने की भावना देता है। परिवार के सदस्य का प्यार और स्नेह हमारे घर को और भी ज्यादा खूबसूरत बनाता है।

Essay on My House

निबंध 3 (600 शब्द) – मेरा ड्रीम हाउस

घर मानव द्वारा निर्मित एक आवास हैं। जलवायु परिस्थितियों और स्थान की उपलब्धता के अनुसार अलग-अलग तरह के घर बनाए जाते हैं। आपका घर एक अपार्टमेंट, एकल परिवार वाला घर, बंगला, केबिन, आदि कुछ भी हो सकता हैं। यह लोगों की जरूरतों और उनकी आर्थिक स्थिति पर निर्भर करता है।

घर का विचार

घर की आवश्यकता कम उम्र से ही महसूस होने लगती है। प्राचीन समय में इंसान आश्रय और सुरक्षा के लिए गुफाओं में रहते थे। चूंकि उस दौरान जीवन असंगठित और गैर-व्यवस्थित था। जैसे-जैसे इन्सान की ज़रूरतें बढ़ने लगी परिदृश्य भी बदलने लगे। यह केवल आवश्यकता ही थी जिसने इस तरह की प्रगति को जन्म दिया। लोगों को अपने परिवार के सदस्यों के साथ रहने के लिए घरों की आवश्यकता होती है।

घर का निर्माण एक समझदारी भरे तरीके से किया जाना चाहिए चाहे यह एक छोटा घर हो या फिर बड़ा। एक घर का निर्माण आपकी जरूरतों और कल्पनाओं पर निर्भर करता है। इस प्रकार हम देख सकते हैं कि घर की संरचना में नवीकरण आवश्यकताओं के अनुसार ज्यादा बेहतर होता है।

मैं अपने परिवार के सदस्यों के साथ दिल्ली में 1 बीएचके फ्लैट में रह रहा हूं। मेरे परिवार में कुल चार सदस्य हैं। चूंकि हम एक मेट्रो शहर में रह रहे हैं, तो हमें ज्यादा किराए में छोटे घर मिलते हैं। हम एक छोटे से घर में रहते हैं जो परिवार की आवश्यकताओं के अनुसार अनुकूल नहीं है, लेकिन परिवार की देखभाल और स्नेह ने हमें कभी भी जगह की कमी का एहसास नहीं होने दिया। यहाँ केवल एक बेडरूम है, इसलिए हम दो बच्चों ने खुद को लिविंग रूम के अनुकूल बना लिया है।

हमारे पास एक बढ़िया रसोईघर, बाथरूम और एक छोटी सी बालकनी भी है। हमारा घर पेंट किया हुआ है और यह हमेशा साफ रहता है। हमारे पास ज्यादा जगह नहीं है लेकिन यह हमारे छोटे से परिवार के लिए पर्याप्त है। हमारे अपार्टमेंट के सामने एक पार्क है, जो एक मनोरम दृश्य प्रदान करता है। यहाँ पर छत भी है और कभी-कभी हम अच्छी हवा पाने के लिए वहां जाते हैं। मेरे पास एक छोटा घर है, लेकिन यह उचित ढंग से प्रबंधित है और मैं वाकई में अपनी इस जगह से प्यार करता हूं।

अगर किसी व्यक्ति का परिवार बड़ा है तो मेट्रो शहरों में उसके लिए बहुत समस्या है। यहाँ पर बड़े फ्लैट काफी महंगे होते हैं और इस तरह लोग छोटी जगहों में रहने के लिए मजबूर हैं और घर की खराब स्थिति के कारण आये दिन स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का खतरा बना रहता है।

मेरे सपनों के घर का एक नजरिया

भविष्य में मैं अपने खुद के घर की कामना करता हूं, क्योंकि फिलहाल हम एक छोटे से घर में रह रहे हैं। मैं अपने सपनों के घर में अपने माता-पिता और बहनों के साथ रहना चाहता हूं। मेरे अनुसार, घर में हर वो सुविधाएँ जैसे शानदार वॉशरूम, रसोई और हवादार कमरे आदि से सुसज्जित होना चाहिए। मैं कभी भी एक बड़े घर का सपना नहीं देखता, बजाय एक ऐसी जगह के जो मुझे खुशी और सुरक्षा तथा आत्मीयता का एहसास दे। मैं अपने सपनों के घर की सुविधाओं को यहाँ पर सूचीबद्ध कर रहा हूं।

  • हवादार और खाली जगह – मेरे घर में प्राकृतिक हवा आने के लिए उचित व्यवस्था होगी और घर के चारों ओर रिक्त स्थान भी छूटा होना चाहिए। इससे घर को हवादार और जीवंत बनाने में मदद मिलेगी।
  • बागबानी के लिए जगह – मेरे घर में बागवानी के लिए जगह होगी, क्योंकि पौधे वायु शोधन में मदद करते हैं और इनकी मौजूदगी से एक बेहतर दृश्य का निर्माण भी होता है।
  • मेरे कमरे से जुड़ी एक बालकनी – मेरे घर में बने मेरे कमरे से लगी हुई बालकनी होनी चाहिए जिसे जब दिल चाहे खोल कर बाहर की ताज़ी हवा और खूबसूरत नजारा देखा जा सके। मेरे सपनों के घर के सामने का दृश्य सुन्दर होना चाहिए, चाहे कोई पार्क या फिर खेल का मैदान हो।
  • जीवंत कमरे – मेरे घर में जीवंत कमरे शामिल होंगे, उन्हें विभिन्न रंगों के साथ पेंट किया जाएगा। मैं चाहता हूं कि मेरे घर में एक पढ़ने की भी जगह बने।
  • वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम – मेरे घर में छत की बारिश के पानी को इकट्ठा करने और इसे अपव्यय से बचाने के लिए वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम भी मौजूद होगा।

घर सबसे अच्छी जगह है जो हमें सुरक्षा के साथ-साथ प्यार और स्नेह की भावना प्रदान करता है। यह वह जगह है जहाँ हम सबसे अधिक आराम और आजाद महसूस करते हैं। मैं अपने घर और अपने परिवार के सभी सदस्यों से प्यार करता हूं जो इसे एक खूबसूरत घर बना रहे हैं।

संबंधित पोस्ट

मेरी रुचि

मेरी रुचि पर निबंध (My Hobby Essay in Hindi)

धन

धन पर निबंध (Money Essay in Hindi)

समाचार पत्र

समाचार पत्र पर निबंध (Newspaper Essay in Hindi)

मेरा स्कूल

मेरा स्कूल पर निबंध (My School Essay in Hindi)

शिक्षा का महत्व

शिक्षा का महत्व पर निबंध (Importance of Education Essay in Hindi)

बाघ

बाघ पर निबंध (Tiger Essay in Hindi)

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

HiHindi.Com

HiHindi Evolution of media

Mera Ghar Essay in Hindi – मेरा घर पर निबंध

Mera Ghar Essay in Hindi  आज हम सभी के चिर परिचित विषय  मेरा घर पर निबंध आपके साथ साझा कर रहे हैं. 5 लाइन, 10 लाइन, 100, 200, 250, 300 और 500 शब्दों में  Mera Ghar Essay in Hindi  में कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8 और 9 व 10 वीं क्लास के स्टूडेंट्स के लिए छोटा बड़ा घर पर निबंध यहाँ बता रहे हैं.

Mera Ghar Essay in Hindi 100 Words

Mera Ghar Essay in Hindi – मेरा घर पर निबंध

Short Essay On Mera Ghar Essay in Hindi Language For Class 1,2,3,4,5 :  हर इंसान को सच्चा सुख तथा सुकून अपने ही आशियाने में मिलता है. घर चाहे छोटा हो या बड़ा कच्चा हो या पक्का उसमें जो अपनेपन का लेबल लगा रहता है

वह दिल के बेहद करीब होता हैं. मैं एक मध्यम वर्गीय परिवार से आता हूँ मेरा घर भी बेहद छोटा है जयपुर के शास्त्री नगर इलाके के एक छोटे से घर में रहता हूँ जहाँ पिछले कई दशकों से मेरे माता पिता तथा दादा दादी रहते हैं.

शहर के अन्य घरों से अलग एक मंजिला मेरा घर धरती माँ की गोदी में बसे स्वर्ग की तरह है जिसमे दो बैठक कक्ष 3 शयनकक्ष एक रसोई बनी हुई हैं.

हमारे घर में पढने के लिए एक अलग कमरा हाल ही बनाया गया है जिसे हम अध्ययनालय के नाम से पुकारते है यहाँ हम सब भाई बहिन बैठकर पढ़ते हैं. मेरे घर में एक अतिथिघर भी बना हुआ है जहाँ आम तौर पर हमारे रिश्तेदार आने पर रहते है अथवा घर के बड़े बुजुर्ग आराम करते हैं.

शहर की तंग गलियों से दूर खुले में निर्मित मेरा घर काफी हवादार हैं. जो संगमरमर के पत्थर से बना है जिसकी फर्श को टाइल्स के साथ बनाया गया हैं. हमारा घर सजावट के लिहाज से किसी दर्शनीय स्थल से कम नहीं हैं.

एक बार कोई आ जाए तो उसका आधा घंटा दीवारों पर लगी खूबसुरत तस्वीरों को देखने में ही गुजर जाता हैं. हमारी माताजी घर को साफ़ सुथरा रखने का विशेष तौर पर ख्याल रखती हैं.

यही वजह है कि कही भी कूड़ा करकट आदि नजर नहीं आता हैं. घर से ही छटा एक छोटा बगीचा भी हैं जिनमें हरियाली देखने से ही मन भरा जाता हैं. खुशबूदार फूल मुझे हर सुबह और शाम यहाँ खीच ही लाते हैं.

मैं स्वेच्छा से अपने पौधों की क्यारियों में पानी डालता हूँ. भले ही छोटा ही सही मेरा घर अपने इलाकों के सबसे सुंदर घरों में गिना जाता हैं. घर में प्रवेश करते ही मन में जो शांति का भाव जगता है मानों किसी तीर्थ यात्रा में गये हो.

Mera Ghar Essay in Hindi 250 words For Class 5,6,7,8

Ghar Essay in Hindi – मेरा घर निबंध my home essay in hindi paragraph :  वह घर ही होता है जिसमें सभी अपनों का प्यार बसा माता होता हैं.

जिनमें माता पिता भी साथ रहते हो तो फिर वह स्वर्ग से कम नहीं लगता हैं. यह कतई मायने नहीं रखता कि घर बड़ा है अथवा छोटा बस घर तो घर ही होता हैं. वो शांति की मंजिल होती है जहाँ परिवार के सभी सदस्य दिन के ढलने तक पहुचने की कामना करते हैं.

व्यक्ति के मन की शांति तथा सुरक्षा के भाव तो घर में ही मिलते हैं. दुनियां में कोई किसी की कद्र नहीं करता किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता आप कहा है तथा कैसे है मगर एक घर और घरवाले ही जिन्हें हर दम एक दूसरे की चिंता रहती हैं.

यही वजह है कि नियत समय तक घर नहीं पहुचने पर तुरंत फोन की घंटी बजने लगती है तथा वह फोन भी घर से ही होता हैं. घर आकर हम अपनों के बीच समय व्यतीत करते हैं.

अपने शरीर की साफ़ सफाई देखभाल नियमित तौर पर घर में ही हो सकती हैं. आपने भी घर का महत्व कभी अनुभव तो किया ही होगा, जब एक रात आप बाहर रहे होंगे उस दिन आपकों गहरी नीद नही आई होगी. अपने बेडरूम में तो बिस्तर पर लेट जाते ही नीद आ जाया करती थी.

घर में जब भी दिमाग पर वजन बढने लगता है हम बच्चों के साथ खेलने के लिए निकल जाते है अथवा पूजा घर में जाकर भगवान की पूजा अर्चना करते हैं. सर्दी के मौसम में शरीर को सेकने के लिए चारपाई या कुर्सी लेकर छत पर चले जाते हैं.

मेरा घर सजावटी सामान से अटा पड़ा हैं हमारे बैठक हॉल में टीवी लगा हैं जब परिवार के सभी सदस्य काम से फ्री हो जाते हैं तो हम सभी साथ बैठकर इसी कमरे में टीवी देखते हैं. देर रात एक साथ साथ बैठे मस्ते करते हैं फिर सोने के लिए चले जाते हैं.

हमारा घर तीज त्यौहार तथा उत्सव के अवसर पर दुल्हन की तरह सज जाता हैं. हमारे पड़ौसी भी इस दिन मेहमान बनकर आते हैं. तथा गली मोहल्ले के सभी बच्चें उत्सव की रौनक को कई गुणा तक बढ़ा देते हैं.

बड़ी बहिन नित्य घर के आंगन में रंगोली बनाती हैं. मेरा घर एक पवित्र मन्दिर की तरह है जहाँ हम सभी परिवार के सदस्य हर्ष उल्लास के साथ एक दूसरे का सहयोग करते हुए जीवन जीते हैं.

मेरा घर पर निबंध हिंदी भाषा में – Essay on my house in Hindi language

मैं एक ग्रामीण परिवेश में पला बड़ा हुआ हैं. मेरा घर आधुनिक घरों की तुलना में कई तरीकों से भिन्न हैं. राजस्थान के सुदूर इलाकों में गाँव से कुछ ही दूरी पर मरुभूमि में मेरा घर हैं, जिसे कब बनाया गया इसका मुझे कोई अंदाजा नहीं हैं. क्योंकि मेरा घर काफी पुराना है जिसका निर्माण दादाजी ने करवाया था.

भले ही घर में कुछ ईमारते तथा भवन पुराने तथा जर्जर हो मगर उनमें बसने वाले मेरे परिवार के लोगों के मध्य मुझे यह दुनियां का सबसे अच्छा घर लगता हैं. चूने तथा पत्थर से निर्मित घर पर लाल गुलाबी रंग की पुताई की गई हैं.

इसी घर में मेरा एक कमरा भी है जिसे मैंने देवताओं के तस्वीरों के साथ सजाकर एक मन्दिर का स्वरूप दिया है मेरा अधिकांश समय इसी रूम में निकलता हैं.

मेरे घर में पिताजी तथा चाचाजी का परिवार बसता है कुल मिलाकर 12 सदस्य हम बड़े प्यार के साथ मिलजुलकर यहाँ रहते हैं. कई बार परिवार के सदस्यों के मध्य आपसी मन मुटाव भी हो जाते हैं. मगर वे दीर्घकालीन ना होकर एक दूसरे को मनाकर खुश कर देने पर समाप्त भी हो जाते हैं.

घर और परिवार से व्यक्ति को सबसे बड़ा लाभ यह होता है कि उनमें सामूहिक सुरक्षा का भाव रहता हैं. एक अच्छे घर तथा मोहल्ले में उसे असुरक्षा का भाव रहता हैं बीमार होने पर सभी उनके लिए चिंतित रहते हैं. साथी सदस्य उनका इलाज करवाते हैं उनकी हर तरह से मदद की जाती हैं.

वही दूसरी ओर किसी तरह के लड़ाई झगड़े में भी परिवार तथा पडौस के लोग ही उनकी सुरक्षा कवच होते हैं. सुख तथा दुःख दोनों में ही घर के लोग ही काम आते हैं. हमारे घर में सभी सदस्यों के लिए अलग अलग कमरा है तथा सभी के लिए एक ही पूजा घर रसोई, खेल का मैदान तथा बगीचा हैं.

हमारी माताजी तथा चाची परिवार के सभी सदस्यों के लिए मिलजुलकर खाना बनाने का काम करती हैं. दादीजी अपना अधिकतर समय पूजा पाठ तथा अपनी पोतियों के साथ मौज मस्ती में ही व्यतीत करती हैं. मैं स्कूल से आने के बाद खाना खाकर अपने दोस्तों तथा भाइयों के साथ खेलने के लिए मैदान में चले जाते हैं.

रात पड़ने तक हम क्रिकेट खेलते है जिसके बाद घर के बगीचे में हमारी ड्यूटी लगती है जहाँ पौधों को पानी पिलाने का कर्तव्य मेरा ही हैं. यह काम खत्म करके मैं अपने अध्ययन कक्ष की और लौटता हूँ.

कुछ घंटे की पढाई के बाद रात्रि का भोजन करने के बाद घर के सभी लोग टीवी देखने के लिए बड़े हॉल में चले जाते है तथा देर रात तक टीवी देखने के बाद सभी अपने अपने कमरे में सोने के लिए चले जाते हैं.

चूँकि हमारा घर एकमंजिला है इसलिए घर की छत काफी बड़ी है यहाँ तक पहुचने के लिए लोहे की सीढियों को तैयार किया गया हैं.

मेरे दादाजी को किताबे पढ़ने का शौक हैं. वे अपने खाली समय में छत के ऊपर बने छोटे से पुस्तकालय में आकर पढ़ते है कई बार वे मुझे भी अपने साथ ले आते है तथा अपने पसंद की किताब मुझे पढकर सुनाने के लिए कहते हैं. मैं घंटों तक दादाजी को आख्यान देता हूँ फिर वो मुझे शाबास कहकर खेलने के लिए भेज देते हैं.

  • स्वच्छता का महत्व एवं घर की साफ सफाई
  • घर पर सुविचार अनमोल वचन
  • चिड़ियाघर की सैर पर निबंध

उम्मीद करता हूँ दोस्तों यहाँ दिया गया  Mera Ghar Essay in Hindi  अच्छा लगा होगा. इस हिंदी निबंध को अन्य विषयों जैसे कि  मेरा घर पर निबंध इन हिंदी, mera ghar par nibandh in hindi, मेरे सपनों का घर पर निबंध, मेरा घर पर निबंध class 1, बच्चों का मेरा घर पर निबंध के रूप में भी आप पढ़ सकते हैं. यह निबंध अच्छा लगा हो तो प्लीज अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

One comment

Leave a reply cancel reply.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mera Ghar Essay in Hindi

Mera Ghar Essay in Hindi: मेरे घर पर निबंध

क्या आप भी Mera Ghar Essay in Hindi की तलाश कर रहे हैं? यदि हां, तो आप इंटरनेट की दुनिया की सबसे बेस्ट वेबसाइट essayduniya.com पर टपके हो. यदि आप mera ghar essay in hindi , hindi essay mera ghar , mera ghar nibandh, mera ghar nibandh in hindi, mera ghar in hindi, my house essay यही सब सर्च कर रहे हैं तो आपका इंतजार यही पूरा होता है.

Mera Ghar Essay in Hindi

यहां हम आपको Mera Ghar Essay in Hindi उपलब्ध करा रहे हैं. इस निबंध को आप कक्षा 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के लिए या अपने किसी प्रोजेक्ट के लिए उपयोग कर सकते हैं. यदि आप को किसी स्पीच के लिए टॉपिक hindi essay mera ghar मिला है तो आप इस लेख को स्पीच के लिए भी उपयोग कर सकते हैं. इसके साथ ही यदि आपको किसी निबंध प्रतियोगिता के लिए भी mera ghar nibandh लिखना है तो आपको यह आर्टिकल पूरा बिल्कुल ध्यान से पढ़ना चाहिए.

mera ghar nibandh in hindi (100 words)

हम सभी को अपने घर से बड़ा लगाव होता है। घर चाहे छोटा हो या बड़ा इससे सभी को स्नेह होता . मेरे जीवन में भी मेरे घर का सबसे बड़ा स्थान है।  मेरे घर में मैं और मेरे परिवार के बाकी लोग बड़े प्रेम से रहते हैं  वैसे तो मेरा घर छोटा है. परंतु मेरे घर की बनावट काफी सुंदर है. 

मेरे घर में एक हॉल है. जहां सभी लोग एक साथ बैठकर खाना खाते हैं.  तथा टीवी देखते हैं मेरे घर में एक किचन है और एक अलग बेडरूम भी है. जिसमें मेरे माता-पिता सोते हैं इसके साथ-साथ मेरे घर की छत काफी खुली और बड़ी है. जहां हम गर्मी के मौसम में एक साथ सोते हैं।

Mera Ghar Essay in Hindi

mera ghar nibandh 200 words

मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण स्थान मेरा घर है, जहां मेरा जन्म हुआ। मेरे लिए यह ईश्वर की तरफ से दिया गया सबसे कीमती तोहफा है। मेरे इस घर में सभी लोग मिलजुल कर बड़े प्रेम से रहते हैं। घर में मेरे माता-पिता, दादा-दादी और भाई बहन रहते हैं। 

मेरा घर एक कॉलोनी में स्थित है, जो कि काफी बड़ी कॉलोनी है। मेरे घर की बनावट और सजावट काफी सुंदर है। इसमें तीन कमरे, एक किचन और एक हाल है, घर के सभी कमरे हवादार है। हम सभी मिलकर हमारे घर को हमेशा साफ सुथरा रखते हैं।

 घर के छोटा से आंगन में एक मंदिर है, जहां हम सब सुबह शाम पूजा करते हैं। मैं जब भी मेरे स्कूल या कहीं बाहर जाता हूं, तो बहुत थक जाता हूं। मुझे आराम मेरे घर आकर ही मिलता है, मैं घर में आते ही सारी थकान भूल जाता हूं। मेरे घर का वातावरण काफी अच्छा है। दादा दादी हमें सुबह शाम आंगन में योगा करवाते हैं। मेरे लिए मेरा घर दुनिया का सबसे सुंदर घर है ,और मैं हमेशा अपने घर को ऐसे ही सुंदर देखना चाहता हूं।

रक्षाबंधन पर निबंध
विज्ञान के चमत्कार हिंदी में निबंध
मेरे स्कूल पर निबंध
 मित्रता दिवस पर निबंध
प्रदूषण पर निबंध
वर्षा ऋतु पर निबंध

my house essay 300 words

घर एक ऐसी जगह है, जहां हम हमारे परिवार के साथ रहते हैं। यह हर व्यक्ति की एक जरूरी आवश्यकता है। हम अपने घरों का निर्माण अपनी सुविधा अनुसार करते हैं, और अपने घर को हमेशा सुंदर और साफ देखना चाहते हैं। मेरा घर विश्वास कॉलोनी में स्थित है।

 मैं एक मध्यमवर्गीय परिवार से संबंध रखता हूं, इसलिए मेरा घर छोटा है। लेकिन मेरा घर एक अच्छा घर है, जहां मेरे माता-पिता भाई-बहन और दादा-दादी साथ में रहते हैं। अगर मेरे घर की बनावट की बात की जाए, तो मेरे घर में दो बेडरूम, एक किचन, एक बड़ा बरामदा, एक लिविंग रूम वॉशरूम और आंगन और एक छोटा गार्डन भी है।

 मेरे घर के सभी कमरे हवादार हैं। घर के सभी कमरों को नीले रंग से पेंट किया गया है। मैं दिन भर कहीं भी रहूं पर मुझे शांति शाम को घर आकर ही मिलती है। घर आते ही जिस सुकून की प्राप्ति होती है, उससे सभी लोग भलीभांति परिचित हैं। मेरे घर के आंगन में एक छोटा सा मंदिर है, जिसमें हम सभी लोग सुबह शाम भगवान की पूजा करते हैं और आंगन में ही में मेरे भाई बहनों के साथ खेलता हूं। 

मेरे दादाजी मुझे सुबह-सुबह गार्डन की सफाई और पेड़ पौधों की देखभाल के लिए ले जाते हैं। मेरा घर छोटा सही पर इसमें एक खुशहाल परिवार रहता है, जो सभी त्योहारों को खुशी खुशी एक साथ मनाता है। मुझे मेरे घर में एकदम सुरक्षित और आराम का एहसास होता है। मुझे घर में रहना बहुत पसंद है। मेरी बचपन की बहुत सी यादें इस घर से जुड़ी है इसलिए यह घर मेरे लिए स्वर्ग से कम नहीं है।

Mera Ghar Essay in Hindi 400 words

दुनियां में उसी को भाग्यशाली कहा जाता है, जिसके पास अपना घर होता है। घर हर इंसान की एक पहली जरूरत है, जिसमें इंसान अपनी सारी जिंदगी खुशी-खुशी बिताता है। इंसान के पास घर होना स्वर्ग होने के समान माना जाता है। मेरा घर दिल्ली में है जो की बनावट के हिसाब से काफी सुंदर घर है। मुझे मेरे घर से बहुत लगाव है, और मैं मेरे घर में ही सुख और शांति का एहसास महसूस करता हूं।

मेरे घर की बनावट

बनावट के रूप में मेरा घर काफी सुंदर है मेरे घर में चार कमरे, एक रसोईघर और एक बरामदा है। मेरे घर के प्रत्येक कमरे हवादार और हर सभी कमरों में लाइट लगी हुई है। घर में मेरा कमरा अलग है, मैं उसी में पढ़ता हूं और वही सोता हूं। मेरे घर के आगे एक बड़ा आंगन स्थित है, उसी में एक छोटा सा बगीचा भी है। घर के हवादार होने के कारण ठंड में धूप तथा गर्मी में खूब हवा आती है। मेरे घर का रंग हल्के क्रीम कलर का है, जो कि एक आरामदायक रंग होता है।

मेरे घर की विशेषताएं

मेरा घर शहर से दूर खुली जगह में स्थित है, और यह शहर के प्रदूषण से पूरी तरह मुक्त है। मेरे घर के पास काफी हरियाली है, जिससे मेरा घर का वातावरण हमेशा साफ और ठंडा रहता है। अगर मेरे घर की खास विशेषता की बात की जाए तो हमारे घर की छत काफी बड़ी और खुली है। यहां से सभी मौसम का आनंद बड़ी आसानी से लिया जा सकता है। मेरे घर में किसी भी छोटे त्यौहार या फंक्शन को आसानी से मनाया जा सकता है। मेरा घर एक बड़ा और सुंदर घर है।

मेरा घर सारी सुविधाओं से युक्त है, और यह मेरा सपनों का घर है। मुझे भी बाकी लोगों की तरह अपने घर से अधिक प्रेम है और मैं हमेशा इसे साफ और स्वच्छ देखना चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि, मैं हमेशा इस घर में अपने परिवार के साथ खुशी खुशी अपना जीवन व्यतीत करूं। इस घर से मेरी बचपन की कई यादें जुड़ी हुई है इसलिए यह मुझे सभी स्थानों से अधिक प्रिय है।

Mera Ghar Essay in Hindi 500 words

सभी लोगों को अपने घर से अधिक प्रेम होता है। चाहे वह इंसान हो या जानवर, उसे अपने घर की जरूरत हमेशा होती है। घर ही एक ऐसी जगह है, जहां इंसान जन्म से लेकर मृत्यु तक का सफर तय करता है। हर इंसान की अपने घर से कई यादें जुड़ी होती हैं, जिन्हें वह अपने घर में रहकर महसूस कर सकता है। उसी प्रकार मुझे भी मेरे घर से अधिक लगाव है। मेरा घर वसंत कॉलोनी में स्थित है। मैं एक मध्यमवर्गीय परिवार से संबंध रखता हूं, इसलिए मेरा घर ज्यादा बड़ा नहीं एक छोटा और प्यारा घर है।

मेरे घर की बनावट वास्तु के हिसाब से की गई है। मेरे घर का द्वार पूर्व दिशा में किया गया है, तथा मेरे घर में तीन कमरे, दो बाथरूम, एक बरामदा, एक आंगन और उस आंगन में एक छोटा सा मंदिर भी है। मेरे घर को बाहर से नीले और अंदर से सफेद रंग से पेंट किया गया है, क्योंकि सफेद रंग को शांति का प्रतीक कहा जाता है इसलिए हम हमारे घर में शांत माहौल चाहते हैं।

मेरे घर के सभी कमरे काफी खुले और हवादार हैं, जिससे कि गर्मी के मौसम में हवा और ठंडी के मौसम में धूप आसानी से घर के अंदर आ सके। मेरे घर में बड़ा आंगन है जिसमें एक गार्डन और मंदिर स्थित है हम उस गार्डन में सुबह शाम की सैर कर सकते हैं और प्रतिदिन मंदिर में सुबह शाम की पूजा करते हैं।

मेरे घर का वातावरण

मेरे घर का वातावरण काफी शुद्ध है, क्योंकि घर के आस-पास काफी हरियाली है। जिसकी वजह से यहां का वातावरण साफ और खुशनुमा रहता है। मेरे घर में मंदिर होने का भी एक बड़ा फायदा है मंदिर होने से घर के वातावरण में शांति का आभास होता है, और घर में सभी के मन शांत रहते हैं।

मेरा घर मेरे लिए सभी चीजों से अधिक प्रिय है। मेरे घर के प्रति मेरे प्रेम की कोई सीमा नहीं है। इंसान कितना ही बाहर घूमने लेकिन उसे शांति अपने घर में आकर ही मिलती है। घर एक ऐसी जगह है जहां हम दुनियां की भीड़ भाड़ से अलग होकर सुकून के पल जी सकते हैं। घर को बड़े बुजुर्गों द्वारा मंदिर कहा गया है। मेरा घर छोटा है परंतु खुशियों से भरा हुआ है।

कोरोना पर निबंध
बेटी बचाओ बेटी पढाओ निबंध
समाचार पत्र पर निबंध
आजादी का अमृत महोत्सव पर निबंध
भारत छोड़ो आंदोलन पर निबंध और टिप्पणी
आजादी के गुमनाम नायक पर निबंध

mera ghar nibandh

हमारे सभी प्रिय विद्यार्थियों को इस Mera Ghar Essay in Hind i जरूर मदद हुई होगी यदि आपको यह mera ghar nibandh in hindi अच्छा लगा है तो कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको यह Mera Ghar Essay in Hindi कैसा लगा? हमें आपके कमेंट का इंतजार रहेगा और आपको अगला Essay कौन से टॉपिक पर चाहिए इस बारे में भी आप कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं ताकि हम आपके अनुसार ही अगले टॉपिक पर आपके लिए निबंध ला सकें.

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

मेरा घर पर निबंध (Mera Ghar Essay in Hindi)

घर एक जगह होती है जो व्यक्तियों के निवास के लिए बनाई जाती है। यह एक स्थायी संरचना हो सकती है जिसमें लोग रहते हैं, विश्राम करते हैं, और अपने दैनिक जीवन की गतिविधियों को करते हैं। घर आमतौर पर एक आवासीय स्थान के रूप में जाना जाता है, लेकिन यह सामाजिक, पारिवारिक और आर्थिक आधार पर भी महत्वपूर्ण हो सकता है। घर आपके व्यक्तिगत और पारिवारिक जीवन की महत्वपूर्ण स्थान होती है, जहां आप अपने प्रियजनों के साथ समय बिताते हैं और आपकी आत्मा को शांति और सुरक्षा की भावना मिलती है।

Table of Contents

मेरा घर: स्वर्ग से कम नहीं

मनुष्य की जीवन-रेखा में घर का विशेष महत्व होता है। घर ही वह स्थान होता है जहाँ उसका जन्म होता है और उसके जीवन की सारी कहानी बुनी जाती है। यह वह स्थान होता है जिसमें प्यार, देखभाल, सुरक्षा और संघर्ष के साथ-साथ खुशियों की भरमार होती है। मेरे घर के बारे में यह निबंध लिखने का प्रयास करता हूँ, जिसमें मैं इसके स्थान, संरचना, सुविधाएँ और महत्व को वर्णन करने का प्रयास करूँगा।

घर का स्थान

मेरे घर का स्थान सबसे प्रिय है, क्योंकि यह न केवल मेरे शारीरिक रूप की जड़ी-बूटी है, बल्कि यह मेरे आत्मा का भी एक अभिन्न हिस्सा है। मेरे घर का स्थान हिमाचल प्रदेश के एक छोटे से गांव में है। यह गांव प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर है और शांतिपूर्ण वातावरण में स्थित है। हरियाली से भरे खेत, गांव के चारों ओर बसी जंगली जानवर, गांव के स्थानीय लोगों की मिलनसर सादगी – ये सभी घर के स्थान को और भी आकर्षक बनाते हैं।

घर की संरचना

मेरे घर की संरचना भारतीय संस्कृति और वास्तु शास्त्र के अनुसार है। यह दो मंजिलों का है, जिनमें तीन बड़े कमरे, एक छोटा गेस्ट रूम, एक सुंदर सा पूजा घर, और एक बड़ा हॉल है। घर की मुख्य दीवारें लाल रंग से चित्रित हैं, जो उसकी शांति और खुशियों की भावना को दर्शाते हैं। छत पर छत्ते पर सजीव हरियाली बिताने के लिए एक छोटी सी छतरी है, जो गर्मी के महीनों में बहुत उपयोगी साबित होती है। घर के आसपास एक सुंदर बगीचा है जिसमें विभिन्न प्रकार के फूल, पेड़-पौधे और घास का कुच न कुच निर्मित होता रहता है।

घर की सुविधाएँ

मेरे घर में विभिन्न प्रकार की सुविधाएँ हैं जो इसे एक स्वर्ग से कम नहीं बनाती हैं। पहले तो यहाँ की शांतिपूर्ण वातावरण ही आत्मा को शांति देता है। घर के बड़े हॉल में बैठकर अपने परिवार के साथ समय बिताना अद्भुत अनुभव होता है। पूजा घर में हमें आत्मा की शांति मिलती है और हम वहाँ अपने आदर्श देवता की पूजा करते हैं। गेस्ट रूम में आने वाले मित्र और रिश्तेदारों के लिए स्थान होता है, जिससे हमारे घर का आनंद और भी बढ़ जाता है।

घर का महत्व

मेरे लिए मेरा घर सबसे महत्वपूर्ण स्थान है, क्योंकि यह वहाँ की बातों और यादों से भरपूर है जो मेरे जीवन को रंगीन और यादगार बनाते हैं। घर के द्वारांत में खेलने की यादें, माता-पिता के साथ मनमोहक बातचीत, छत पर तारों की गिनती करने की मजेदारी – ये सभी छोटी-छोटी यादें हैं जो मेरे दिल को छू जाती हैं। यहाँ की चुपचापी मेरी सोच को शांत करती है और नए उत्साह के साथ मुझे आगे बढ़ने की साहस देती है।

इस निबंध के माध्यम से, मैंने अपने घर के बारे में विस्तार से विचार किए हैं। मेरा घर मेरे लिए एक स्वर्ग से कम नहीं है, जिसमें मैंने बचपन से लेकर अब तक के सभी पलों को जीवनभर की यादें बनाई हैं। घर ही वह स्थान है जहाँ प्यार, देखभाल और सुरक्षा का आदान-प्रदान होता है, जो हमें अपने जीवन के सभी मोड़ पर सहारा देता है। इसलिए, मेरे लिए मेरा घर सबसे महत्वपूर्ण स्थान है जो मेरी अद्वितीयता की पहचान है।

अन्य पढ़ें –

  • इंटरनेट क्रांति पर निबंध
  • बाघ पर निबंध 
  • ध्वनि प्रदूषण पर निबंध

Leave a Comment Cancel Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

COMMENTS

  1. मेरा घर पर निबंध 10 लाइन

    10 Lines on my home in Hindi. जिस मकान में अपने परिवार के साथ रहते हैं उसे घर कहा जाता है।. हमारा भी एक घर है जो की मुझे बहुत प्यारा लगता है।. मेरे घर में 3 ...

  2. मेरा घर पर निबंध

    दोस्तों आज हमने Essay on Mera Ghar in Hindi लिखा है। मेरा घर पर निबंध हिंदी में कक्षा Class 1, 2, 3, 4,5, 6, 7, 8, 9 ,10 और 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए है। मेरा घर पर निबंध – My House Essay in Hindi Mera Ghar par Nibandh | Lekh Hindi Mein ( 100 words )

  3. Mera Ghar Essay in Hindi

    Mera Ghar Essay in Hindi For Class 2. मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण स्थान जहां पर मेरा जन्म हुआ था वह है मेरा प्यारा घर जो कि ईश्वर की तरफ से मेरे जीवन का सबसे बड़ा तोहफा है.

  4. मेरा घर पर निबंध

    निबंध 3 (600 शब्द) – मेरा ड्रीम हाउस परिचय घर मानव द्वारा निर्मित एक आवास हैं। जलवायु परिस्थितियों और स्थान की उपलब्धता के अनुसार अलग-अलग तरह के घर बनाए जाते हैं। आपका घर एक अपार्टमेंट, एकल परिवार वाला घर, बंगला, केबिन, आदि कुछ भी हो सकता हैं। यह लोगों की जरूरतों और उनकी आर्थिक स्थिति पर निर्भर करता है। घर का विचार

  5. मेरा घर पर निबंध My House Home Mera Ghar Essay in Hindi

    Short Essay On Mera Ghar Essay in Hindi Language For Class 1,2,3,4,5 : हर इंसान को सच्चा सुख तथा सुकून अपने ही आशियाने में मिलता है. घर चाहे छोटा हो या बड़ा कच्चा हो या पक्का उसमें जो अपनेपन का लेबल लगा रहता है वह दिल के बेहद करीब होता हैं.

  6. Mera Ghar Essay in Hindi: मेरे घर पर निबंध

    Mera Ghar Essay in Hindi यहां हम आपको Mera Ghar Essay in Hindi उपलब्ध करा रहे हैं. इस निबंध को आप कक्षा 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के लिए या अपने किसी प्रोजेक्ट के लिए उपयोग कर सकते हैं. यदि आप को किसी स्पीच के लिए टॉपिक hindi essay mera ghar मिला है तो आप इस लेख को स्पीच के लिए भी उपयोग कर सकते हैं.

  7. मेरा घर पर निबंध (Mera Ghar Essay in Hindi) » Hindi Nibandh

    आप में जोश भर देंगे स्वामी विवेकानंद के ये 8 विचार युवाओं को जाननी चाहिए स्वामी विवेकानंद की ये 5 बातें Sai Sudharsan: भारतीय क्रिकेट के ...